kathal ki sabji kaise banate hain | पकाने की विधि और महत्तवपूर्ण ज्ञान

कटहल एक ऐसा कच्चा फल है जिसकी सब्जी लोग गर्मियों में बनाना पसंद करते हैं मैं और ये एक नाजुक कटहल का उपयोग करके बनाया गया एक शानदार भारतीय व्यंजन है।  यह सब्जी प्रेमी व्यंजन स्वादों से भरपूर है और एक विशेष स्वाद से भरपूर अनुभव प्रदान करता है जो आपके स्वाद के अतीत को चौंका देगा।  इस  “kathal ki sabji kaise banate hain” की रेसिपी में हम आपको कटहल की सब्जी बनाने की विधि के बारे में विस्तार से बताएंगे, साथ ही इसके अद्भुत चिकित्सीय लाभों के बारे में भी बताएंगे। आगे बढ़ने से पहले हम कटहल के बारे में कुछ जानकारी लेंगे जिस्से हमारी नॉलेज बढ़ेगी और इसे खाने में हमारी दिलचस्पी भी अधिक हो जाएगी।

कटहल के बारे में जाकारी:

कटहल की सब्जी, जिसे कटहल करी भी कहा जाता है, भारतीय पकावनो में एक प्रसिद्ध व्यंजन है, खासकर उत्तरी और पश्चिमी जिलों में।  कटहल, प्राथमिक फिक्सिंग, एक दिलचस्प स्वाद और खाने का अनुभव प्रदान करता है, जो इसे शाकाहारी लोगों में अग्रणी बनाता है।  यह व्यंजन अपने समृद्ध स्वाद, मजबूत स्वाद और व्यवस्था में अनुकूलनशीलता के लिए जाना जाता है। तो चलिए “kathal ki sabji kaise banate hai की रेसिपी को स्टेप बाई स्टेप सीखने की कोशिश करें! इसे भी देखे->

kathal ki sabji kaise banate hai

कटहल को बनाने के लिए अवश्यक सामग्री:

इससे पहले कि हम खाना पकाना शुरू करें, हम यह शुनिश्चित कर ले कि हमारे पास कटहल की सब्जी के लिए सभी आवश्यक सामग्री मौजूद है:

1. कटहल: 500 ग्राम, छोटे टुकड़ों में कटा हुआ
2. प्याज: 2 बड़े, बारीक कटे हुए
3. टमाटर: 2, बारीक कटे हुए
4. अदरक-लहसुन पीसा हुआ: 1 बड़ा चम्मच
5. हरी मिर्चः 2, लम्बी काट लें
6. जीरा: 1 चम्मच
7. हल्दी पाउडर: 1/2 चम्मच
8. लाल बीन स्टू पाउडर: 1 चम्मच (स्वाद के अनुरूप)
9. धनिया पाउडर: 1 चम्मच
10. गरम मसाला: 1/2 चम्मच
11. नमक: स्वादानुसार
12. खाना पकाने का तेल: 3 बड़े चम्मच
13. नई धनिया पत्ती: सजावट के लिए

कटहल की सब्जी बनाने की विधि:

चूँकि हमने kathal ki sabji kaise banate hai के लिए अपना सामान तैयार कर लिया है, तो आइए हम कटहल की सब्जी बनाने की प्रक्रिया में धीरे-धीरे आगे बढ़ें:

1. सबसे पहले अपने हाथों पर तेल लगा ले ताकी हाथों में खुजली ना हो, इसके बाद कटहल को छील ले और गोल काट ले, फिर इसके बीच से डंढ़ाल निकाल दे, और फिर मोटे टुकड़ों में काट लें, इसके बाद टुकड़ों को अच्छी तरह से धो कर रख दे।

kathal ki sabji kaise banate hai

2. एक बर्तन में 3 बड़े चम्मच खाना पकाने का तेल गर्म करें, और कटहल को भूरा होने तक भूनें, इसके बाद पैलेट में निकाल ले, और उसी तेल में 1 चम्मच जीरा डाले, जीरा भुने के बाद बारीक कटे हुए प्याज़ डालें और सुनहरा भूरा होने तक भूनें।

3.- इसी मिश्रन में 1 बड़ा चम्मच अदरक-लहसुन का गोंद डालें और कच्ची खुशबू खत्म होने तक भूनें, कटे हुए टमाटर और हरी मिर्च डालकर मिला लीजिए, टमाटर और हरी मिर्च को नरम होने तक पकाएं।

4.- कटहल के कटे हुए हिस्सों को कड़ाही में  डालें और प्याज-टमाटर के मिश्रण के साथ अच्छी तरह मिलाएँ।  संयोगवश मिलाते हुए कुछ देर तक पकाएं।

5.- 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर, 1 चम्मच लाल बीन स्टू पाउडर, 1 चम्मच धनिया पाउडर और स्वादानुसार नमक मिलाएं, सभी चीजो को कटहल के साथ अच्छी तरह मिलाएँ और कुछ मिनटों तक पकाएँ।

6.- डिश के ऊपर 1/2 चम्मच गरम मसाला छिड़कें और मिला दें, कटहल की डिश को कटे हरे धनिये से सजायें।  स्वादिष्ट कटहल की सब्जी को रोटी या चावल के साथ लज़ीज़ अंदाज़ में परोसें।
kathal ki sabji kaise banate hai

कटहल की सब्जी के चिकित्सीय लाभ:

कटहल की सब्जी आपके स्वाद को आनंदित करने के साथ-साथ कुछ चिकित्सीय लाभ भी देती है। आइए हम इसके द्वारा प्रदान किए जाने वाले स्वस्थय लाभो की जानकारी ले:

1. फाइबर से भरपूर:
– कटहल आहार फाइबर का एक अविश्वसनीय स्रोत है, यह हमारी पाचन क्रिया में सहायता करता है, स्वस्थ पेट को बढ़ावा देता है और कब्ज को रोकता है।

2. मौलिक पूरकों से भरपूर:
– कटहल की सब्जी में एल-एस्कॉर्बिक एसिड, विटामिन ए, पोटेशियम और मैग्नीशियम सहित विभिन्न पोषक तत्व और खनिज होते हैं, जो आम तौर पर समृद्धि का समर्थन करते हैं।

कटहल किसे नहीं खाना चाहिए?

1. एलर्जी:
– लेटेक्स एलर्जी वाले लोगों को कटहल का सेवन न करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, क्योंकि इससे प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है।

kathal ki sabji kaise banate hain

2. खंड नियंत्रण:– भारी मात्रा में सेवन करने पर कटहल पेट फूलने या पेट संबंधी परेशानी का कारण बन सकता है। मैं आपको कटहल की सब्जी को मध्यम मात्रा में सर्व करने का सुझाव देता हूँ।

कटहल की सब्जी के लिए मेरी राय:

जैसा कि हमने “kathal ki sabji kaise banate hai” की रेसिपी में देखा की कटहल की सब्जी एक लजीज व्यंजन है जो अपने असाधारण स्वाद और सतह से मुझे आश्चर्यचकित करने में कभी नहीं चूकता। ग्रेवी और कटहल के मिश्रण से यह इतना स्वादिस्ट बनता है जो एक स्वस्थ शाकाहारी व्यंजन की मेरी इच्छाओं को पूरा करता है।  फिर भी, मैं कुछ संयम के साथ या व्यक्तिगत स्वास्थ्य संबंधी विचारों के प्रति सचेत रहते हुए कटहल की सब्जी का सेवन करता हूं।

निष्कर्ष:

कुल मिलाकर, कटहल की सब्जी एक पाक कला की महान कृति है जो इसे भारत की विभिन्न किस्मों के एक शानदार व्यंजन में एकजुट करती है।  इस संपूर्ण kathal ki sabji kaise banate hai की विधि का अनुसरण करके, अब आप घर पर इस शानदार करी को तैयार करने में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकते हैं।  कटहल के स्वादों का आनंद लें और अपने दोस्तों और परिवार के साथ कटहल की सब्जी को साझा करे।

FAQ.

Q. कटहल की तासीर गर्म होती है या ठंडी
Ans. कटहल की तासीर गर्म होती है। कटहल वर्षिय और गरम देशों के प्रमुख फलों में से एक है, जिसे इन देशों में गर्म तासीर का फल कहा जाता है।

Q. कटहल में कौन सा विटामिन पाया जाता है
Ans. कटहल में कई विटामिन पाए जाते है जैसे: विटामिन C, विटामिन A और विटामिन B6। विटामिन C प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायता करता है, विटामिन A त्वचा, आँखों की देखने की शक्ति के लिए उपयोगी होता है, और विटामिन B6 मस्तिष्क के विकशित होने और कोशिकाओं की मदद करता है।

Q. कटहल के दूध के फायदे
Ans. कटहल के दूध के भी कई फायदे है। यह मधुमेह को नियन्त्रित करने में मदद करता है, हृदय स्वास्थ्य को सुधारता है, हड्डियों को मजबूत रखता है, पाचन तंत्र को सुधारता है।

Q. कटहल के बीज के फायदे
Ans. इसके बीज भी मधुमेह को नियन्त्रित करने में मदद करता है, और वजन घटाने में सहायता करता हैं और एंटी-एजिंग गुणों से लाभदायक भी होता हैं।

Q. कटहल के बीज में कौन सा विटामिन पाया जाता है?
Ans. कटहल के बीज में विटामिन B6 पाया जाता है, जो मस्तिष्क के स्वस्थ विकास और कोशिकाओं की उत्पत्ति में मदद करता है, इसके साथ ही ये बहुत स्वादिस्ट भी होते हैं। आपको रेसिपी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताए।

Reed more recipes->

Suran ki sabji recipe-Suran ki sabji

 

 

 

Rasgulla kaise banta hai recipe-rasgulla kaise banta hai

Leave a comment